Header Ads

जॉनसन एंड जॉनसन की कोरोना वैक्सीन से हो सकता है न्यूरोलॉजिकल डिसऑर्डर

नई दिल्ली। जॉनसन एंड जॉनसन की कोरोना वैक्सीन को लेकर अमरीका के फूड एंड ड्रग एडमिनिस्ट्रेशन ने नई चेतावनी दी है। चेतावनी में कहा गया है कि इस वैक्सीन के प्रयोग से व्यक्ति में न्यूरोलॉजिकल डिसऑर्डर पैदा होने का खतरा बढ़ने की संभावनाएं हैं।

यह भी पढ़ें : दिल्ली में टीकों की कमी से बंद हुए 500 से ज्यादा वैक्सिनेशन सेंटर, कई राज्यों में टीकों की किल्लत

रिपोर्ट के अनुसार अब तक इस वैक्सीन की लगभग सवा करोड़ डोज दी जा चुकी हैं जिनमें से सौ मामलों में गुलियन बर्रे (Guillain-Barre) नामक न्यूरोलॉजिकल डिसऑर्डर की शिकायत देखने को मिली हैं। इनमें भी 95 मरीजों की हालत अत्यधिक गंभीर है तथा एक व्यक्ति की मृत्यु होने की भी पुष्टि हुई है। फेडरल वैक्सीन सेफ्टी मॉनिटरिंग सिस्टम द्वारा की गई जांच में यह खुलासा हुआ है। हालांकि एक्सपर्ट्स के अनुसार बीमारी होने की संभावनाएं बहुत कम हैं। मेडिकल एक्सपर्ट अभी इस बात की जांच कर रहे हैं कि वैक्सीन के प्रयोग से यह बीमारी क्यों हो रही है।

कोविशील्ड वैक्सीन में भी है Guillain-Barre सिंड्रोम होने का खतरा
एनल्स ऑफ न्यूरोलॉजी नामक मैग्जीन में पब्लिश एक रिपोर्ट के अनुसार भारतीय वैक्सीन कोविशील्ड लगवाने वाले लोगों में भी इस बीमारी के दुष्प्रभाव देखने को मिले हैं।

यह भी पढ़ें : कांग्रेस ने की मोदी सरकार को घेरने की तैयारी, मानसून सत्र के लिए रखा फाइव प्वाइंट एजेंडा

क्या है Guillain-Barre सिंड्रोम
यह एक बहुत ही दुर्लभ बीमारी है। इस बीमारी में बॉडी का इम्यूनिटी सिस्टम हमारे ही शरीर की रक्षा करने के बजाय उसे आक्रमणकारी मान कर उस पर हमला कर देता है। इस बीमारी से ग्रसित होने पर मरीज के चेहरे की नसें कमजोर हो जाती है और शरीर तथा हाथ-पैर कमजोर होने लगते हैं। धीरे-धीरे यह बीमारी पूरे शरीर में फैलती चली जाती है और व्यक्ति को पूरी तरह से लकवा मार जाता है। अधिकतर रोगी इलाज लेने के बाद इस बीमारी से काफी हद तक उबरने में सफल रहते हैं।



from Patrika : India's Leading Hindi News Portal
Read The Rest:patrika...

1 comment:

  1. In 2013, Hanghou University of Science and Technology in japanese Zhejiang Province developed the first 3D bio printer in China. Early into the Novelty Shower Curtains 3D printing know-how, printing time would take hours. Now, the printing time has been significantly decreased to minutes because of USC Viterbi. They’ve developed improved mask-image-projection-based stereolithography (MIP-SL) to drastically velocity up the fabrication of homogeneous 3D objects. With the advancement of applied sciences, 3D printing has opened up ample alternatives for the trade. It is a process where successive layers of fabric are laid down underneath pc control.

    ReplyDelete

Powered by Blogger.