Header Ads

Britain: मृत समझा जा रहा शख्स पांच साल बाद वापस आया, डर के कारण छिपा था

लंदन। ब्रिटेन के कैम्ब्रिजशायर में एक हैरान कर देने वाली घटना सामने आई है। यहां पर एक कर्मी को ढूंढ़ निकाला गया है जोकि बीते पांच सालों से गायब हो गया था। पुलिस ने उसे मृत समझ लिया था, तभी एक दिन अचानक फेसबुक अकाउंट से उसके मिलने की खबर मिली।। पांच साल बाद पुलिस ने उसे लकड़ी बाजार में छिपा पाया।

सितंबर 2015 में विस्बेच, कैम्ब्रिजशायर के 35 वर्षीय रिकार्डस पुइसीस को आखिरी बार उनके कार्यस्थल पर देखा गया था। उसका कोई निशान नहीं मिला, लेकिन बीते साल नवंबर में उसके नाम से एक फेसबुक अकाउंट स्थापित किया गया था।

बीते महीने वह विस्बेच के बाजार में एक लकड़ी के अंदर छिपा पाया गया था। पुलिस का मानना है कि वह उन लोगों के चंगुल से बचने के लिए यहां छिप गया था जो उसका शोषण कर रहे थे। अब उसे सुरक्षित रखा जा रहा है और पुलिस इस मामले की जांच कर रही है। लिथुआन के रहने वाले शख्स की आखिरी लोकेशन 26 सितंबर, 2015 को चटेरिस के नाइटलेयर लीक कंपनी में उनके कार्यस्थल पर हुई थी।

कैम्ब्रिजशायर के बेडफोर्डशायर के डॉक्टर बेड चॉर्स रॉब हॉल का कहना है कि रिकार्डस उस दिन किसी परेशानी से पीछा छुड़ाने के लिए छिप गए होंगे। इस मामले को लेकर एक व्यक्ति को हत्या की जांच के दौरान गिरफ्तार कर लिया गया था। पुइसेस का कोई पता नहीं चला। अब उसे छोड़ दिया जाएगा।

सोशल मीडिया अकाउंट स्थापित किया

हॉल ने कहा कि पिछले साल रिकार्डस पुइसीस के नाम पर एक सोशल मीडिया अकाउंट स्थापित किया गया था, जिसमें उनकी तस्वीरें भी दिखाई गईं, लेकिन अधिकारी पुइसे को सत्यापित नहीं कर पाए। लगभग पांच साल के लिए रिकार्ड्स के लापता होने का एक पूरा रहस्य बन रहा है।

जब तक कि हमें जून के अंत में जानकारी नहीं मिली थी, जिसके कारण हमें उसे ढूंढना पड़ा। "हरेकॉफ्ट रोड में एक लकड़ी वाले क्षेत्र की खोज के बाद, रिकार्डस को अंतत: जीवित अवस्था में पाया गया। बहुत अच्छी तरह से छिपने के बाद और कुछ समय के लिए किसी के साथ बात नहीं करने के बाद बहुत अच्छी तरह से छुपा हुआ था।

हॉल ने कहा कि अधिकारियों का मानना है कि पुइसेस ने बचने के लिए इस तरह का फैसला किया। वह पहले भी शोषण का शिकार हो चुका था। हॉल ने कहा कि पुइसेस को बीते पांच या अधिक वर्षों के दौरान बेहद कठिन परिस्थितियों में रहना पड़ा। ऐसे में उसे सहारे की जरूरत है।



from Patrika : India's Leading Hindi News Portal
Read The Rest:patrika...

No comments

Powered by Blogger.